Homes

एम.ए. राजस्‍थानी

राजस्‍थानी भासा री संवैधानिक मान्‍यता नै लेयनै लारलै बरसां मांय घणा जतन करीजा। वां जतनां मांय राजस्‍थानी री विधिवत पढाई रौ पांवडौ खास महताऊ है। राजस्‍थानी भासा स्‍कूली पढाई सूं कटगी अर औ ईज कारण रैयौ कै इण रौ ग्‍यांन स्‍कूली पढ़ाकां नै कमती हुवतौ गयौ। औ तौ भलौ हुवै लोक रौ, जकै राजस्‍थानी नैं जींवती राखी। लोक जिण नै धारण कर लेवै वींनै कुण मिटा सकै। राजस्‍थानी भासा रै साथै लोक हेत सरावण जोग है।

साथै ई सरावण जोग है राजस्‍थान माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर अर राजस्‍थान रा केई विश्‍वविद्यालय, जका आपरै पाठयक्रम मांय राजस्‍थानी नै किणी न किणी भांत लागू कर राखी है। राजस्‍थानी नै माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड री दसवीं क्‍लास मांय तीजी भासा रै रूप मांय प्ढीज सकै। इयां ई 11वीं अर 12वीं मतळब जूनियर अर सीनियर आर्टस फैकल्‍टी मांय अेक विसय रै रूप मांय राजस्‍थानी लीरीज सकै।

रैयी बात विश्‍वविद्यालयां री तो राजस्‍थानी अेक-आध विश्‍वविद्यालय नै छोडनै राजस्‍थान रै सगळै विश्‍वविद्यालयां (डीम्‍ड विश्‍वविद्यालयां मांय ईज) मांय पढाइजै।

जयनारायण व्‍यास विश्‍वविद्यालय, जोधपुर राजस्‍थानी पेटै खास गढ़ मानीजै। महर्षि दयानंद सरस्‍वती विश्‍वविद्यालय, अजमेर अर महाराजा गंगासिंह विश्‍वविद्यालय, बीकानेर ई आपरै पाठ्यक्रम मांय राजस्‍थानी नै भेळी राखी है। कोटा अर उदयपुर विश्वविद्यालय रौ जसजोग हैं ई।

इण सूं अळगा जनार्दनराय नागर मान्‍य विश्‍वविद्यालय, उदयपुर रौ राजस्‍थानी भासा पढाई पेटै खास जोगदांन है। वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय, कोटा तौ सांतरौ पाठ्यक्रम बुकलेट रूप में त्यार करनै राजस्थानी सूं बीए,एमए अर डिप्लोमा पाठ्यक्रम करावै।

इण विश्‍वविद्यालयां मांय बीए रै अेक विसय रै रूप मांय राजस्‍थानी भेळी है वठै ई एमएम राजस्‍थानी मांय करीज सकै है। हरख री बात है कै एमए हिन्‍दी रै अेक पेपर रूप मांय ई राजस्‍थानी भासा लीरीज सकै है।

महाराजा गंगासिंह विश्‍वविद्यालय, बीकानेर

बीकानेर विश्‍वविद्यालय, बीकानेर थरपणा सूं पैली इण रौ छेतर महर्षि दयानंद सरस्‍वती विश्‍वविद्यालय, अजमेर रै नीचै हौ। इणी कारणै नवै विश्‍वविद्यालय (जगत पोसाळा) मांय पाठ्यक्रम ज्‍यूं रौ त्‍यूं राखीजौ।

आगीनै चालनै बीकानेर विश्वविद्यालय रौ नांव ई ‘महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय’ करीजौ अर बगत बायरै सारू पाठ्यक्रम में ई कीं बदळाव करीजा, पण हाल ही घणां बदळाव हुवणा बाकी है।

हाल महाराजा गंगासिंह विश्‍वविद्यालय, बीकानेर रै एमए राजस्थानी रै पाठ्यक्रम रौ अठै जिक्र करां।

औ मंच फगत राजस्थानी पढेसरियां रै सैयोग सारू बिना किणी नफै रौ है। इण मंच माथली जांणकारी निजू ग्यांन मुजब है। पढेसरियां सूं अरज है कै विश्वविद्यालय री जांणकारियां नै ई बियां अधिकृत मानै।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s